AcharyaTV

"न्यूज़ कोने कोने से II आप भी लिखना आरंभ करें"

मरीजों की जांच एवं इलाज में किसी प्रकार का विलम्ब और लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जायेगी -जिलाधिकारी

वाराणसी।जिलाधिकारी एस. राजलिंगम ने आज दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल का आज औचक निरीक्षण किया।
उन्होंने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक से लैब में ब्लड जांच व अन्य जांच के बारे में पूछताछ करते हुए इस समय डेंगू, मलेरिया, वायरल फीवर आदि के प्रकोप का सामना कर रहे मरीजों की मुख्य रुप से संख्या और नियंत्रण की जानकारी ली।सीएमएस ने बताया कि आज 306 मरीज अबतक देखे गये।अस्पताल में डेंगू वार्ड के निरीक्षण के दौरान डिस्प्ले व बैनर लगाने का निर्देश दिया तथा उपलब्ध बेडों की संख्या पूछी तो सीएमएस ने बताया कि 108 बेड हैं। मौके पर मरीजों के अटेंडेंट से खाना मिलने और किसी प्रकार की दिक्कत के बारे मे पूछा तो जवाब मिला कोई दिक्कत नहीं है और दूध मक्खन ब्रेड मिल रहा है। इसके बाद इलाज कराने आयी महिला की परेशानी देख कर उसका पर्चा लिए और तकलीफ के बारे में पूछा तथा सीएमएस को निर्देश दिए।
जिलाधिकारी ने सीएमएस से पिछले दो तीन दिनों के भर्ती डेंगू मरीजों की संख्या पूछी और निर्देशित किया कि भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या, डिस्चार्ज होने वाले मरीजों की संख्या, कितना बेड खाली है तथा उनका पूरा पता लिखा हुआ डाटा की रिपोर्ट प्रतिदिन प्रस्तुत करने का निर्देश दिया।इसके साथ ही यह भी विवरण दिया जाय कि यह रिपोर्ट इंटिग्रेटेड कमांड एण्ड कंट्रोल सेंटर को प्रेषित की गयी या नहीं। उन्होंने कहा क्षेत्र, मुहल्ला, वार्ड, गांव या गैर जिले से मरीजों की अधिक संख्या पायी जायेगी उन स्थानों को चिन्हित करते हुए वहां सर्विलांस टीम भेजी जाये। सम्बंधित विभाग नगर निगम या ग्राम पंचायत आदि के द्वारा साफ सफाई, फागिंग, दवा छिड़काव करा कर रोग पर नियंत्रण करने का निर्देश दिया।जिलाधिकारी ने काशी इंटिग्रेटेड कमांड एण्ड कंट्रोल सेंटर का आकस्मिक निरीक्षण किया और वहां के डाक्टरों को निर्देश दिया कि कोविड कंट्रोल करने के सिस्टम को अपना कर उसी तर्ज पर प्राप्त सूचना के अनुसार सेंटर से पेशेन्ट को फोन करके बात किया जाय और उसका हाल लिया जाय। मरीजों को उचित सलाह दी जाय।इसके अलावा सेंटर के डाक्टरों/प्रभारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया कि किस प्रकार के डेटा कलेक्ट करें और किस तरह रिपोर्ट तैयार कर प्रतिदिन प्रस्तुत करें।जिलाधिकारी द्वारा चौकाघाट स्थित आयुर्वेद महाविद्यालय का औचक निरीक्षण किया गया। प्रो. नीलम गुप्ता प्राचार्य तथा डीओ भावना द्विवेदी संग कोविड के समय की गयी व्यवस्थाओं का जायजा लिया और पेशेंट वार्ड, पैथालाजी आदि का मौके पर मुआयना किया।

आप अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दर्ज कर सकते हैं।