AcharyaTV

"न्यूज़ कोने कोने से II आप भी लिखना आरंभ करें"

डॉ अम्बेडकर सही मायनों में गरीबों, दलितों, किसानों एवं मजदूरों के सच्चे मसीहा थे – मनजीत दहिया

अम्बेडकर संघर्ष समिति ने प्रदेश भर में मनाई डॉ अम्बेडकर जी की 131वीं जयंती

रोहतक (सचिन रोहिल्ला)। हरियाणा की प्रख्यात सामाजिक संस्था हरियाणा अम्बेडकर संघर्ष समिति पंजीकृत की ओर से भारत रत्न डॉ भीमराव अम्बेडकर जी की 131वीं जंयती धूमधाम से मनाई गई। समिति के प्रदेश कार्यालय में आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि समिति के प्रदेश अध्यक्ष एवं भारतीय दलित पिछड़ा एकता मंच के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनजीत सिंह दहिया लाखन माजरा थे जबकि कार्यक्रम की अध्यक्षता समिति के जिला प्रधान अजीत सिंह सरोहा ने की। समिति के प्रदेश अध्यक्ष मनजीत सिंह दहिया ने इस अवसर पर कहा कि डॉ अम्बेडकर जी सही मायनों में गरीबों, दलितों, किसानों, महिलाओं और मजदूरों के सच्चे मसीहा थे। डॉ अम्बेडकर जी ने समाज में फैली ऊँच-नीच, छूआछूत, जात-पात तथा वर्ग व्यवस्था के खिलाफ आजीवन आवाज उठाई। समिति के वरिष्ठ प्रदेश उपाध्यक्ष राजेश कश्यप टिटौली ने इस अवसर पर कहा कि बाबा साहब अम्बेडकर जी दलित वर्गो की ही नहीं, स्त्रियों की स्थिति में सुधार लाने के पक्ष में भी थे वे स्त्री शिक्षा के प्रबल समर्थक थे। डॉ अम्बेडकर जी का मत था कि यही शिक्षा उनको आत्म निर्भर बना सकती है। भाट समाज सेवा समिति हरियाणा के प्रदेश अध्यक्ष मनोहर लाल साकला भाट ने कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए कहा कि बाबा साहब डॉ अम्बेडकर जी ऊँचे दर्जे के देश भक्त, संविधान के निर्माता और दलितों के सच्चे मसीहा थे। समिति के प्रदेश महासचिव रोहतास सिंह अहलावत ने कहा कि बाबा साहब डॉ अम्बेडकर जी उच्च कोटि के विद्वान थे। वे पक्के देशभक्त और पूरे स्वाभिमान की जिंदगी बिताने में विश्वास रखते थे

। इस अवसर पर रोहतास सिंहमार अम्बेडकरवादी, नरेश गोठवाल, रामकिशन बामनिया, दलित नेता सूरज खटक चमारिया, जयभगवान राठी, बलवान बाल्मीकि, सोनिया, आरती किन्नर, मनोहर लाल चांदीवाल प्रदेश चैयरमैन पिछड़ा प्रकोष्ठ, विजय मेहरा, जयप्रकाश सहित अनेक समिति पदाद्यिकारियों ने भी डॉ अम्बेडकर जी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर डॉ अम्बेडकर जी के विचारों पर चलने का संकल्प लिया। वही समिति के प्रदेश अध्यक्ष मनजीत सिंह दहिया आज अम्बेडकर चौक रोहतक में आयोजित राष्ट्रपिता महात्मा ज्योतिबा फूले व डॉ अम्बेडकर जी की संयुक्त जयंती समारोह में शामिल हुए और डॉ अम्बेडकर जी व राष्ट्रपिता ज्योतिबा फूले के चित्रो पर पुष्प अर्पित कर उनको याद किया।

आप अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दर्ज कर सकते हैं।